Home राज्य उत्तर प्रदेश वाराणसी : कृत्रिम फेफड़ा के समीप नुक्कड़ नाटक के माध्यम से वायु...

वाराणसी : कृत्रिम फेफड़ा के समीप नुक्कड़ नाटक के माध्यम से वायु प्रदूषण के प्रति किया गया जागरूक
 

68
0

वाराणसी। क्लाइमेट एजेंडा द्वारा गुरुवार आज अस्सी घाट पर 100% उत्तर प्रदेश अभियान के अंतर्गत नुक्कड़ नाटक का आयोजन किया गया। आपको बता दे कि अस्सी घाट पर ही 10 अप्रैल को कृत्रिम फेफड़े की प्रदर्शनी स्थापित की गयी है। यहाँ रोज़ाना रचनात्मक गतिविधियों के माध्यम से आम जन को जागरूक किया जा रहा है। इसी क्रम में प्रेरणा कला मंच, भू सेवा, जल सेवा अभियान एवं युवाओं की टीम द्वारा आज नुक्कड़ नाटक की प्रस्तुति दी गयी। जिसका उद्देश्य आम जन को वायु प्रदूषण एवं उसके स्वास्थ्य पर प्रभाव के साथ समाधान पर केन्द्रित था। 48 घंटे के भीतर सफ़ेद कृत्रिम फेफड़े का धुंधला हो जाने से शहर में वायु प्रदूषण की भयावह स्थिति को समझा जा सकता है। कृत्रिम फेफड़े के उद्देश्यों को पूरा करने में वायु प्रदूषण पर आधारित नुक्कड़ नाटक की टीम ने इसमें सहयोग दिया।
 

इस अवसर पर क्लाइमेट एजेंडा की डायरेक्टर एकता शेखर बताती हैं कि “आज समाज में शिक्षा, स्वास्थ्य, रोज़गार एवं सुरक्षा आदि विषयों के बीच वायु प्रदूषण की समस्या एक ज़रूरी मुद्दा बन गया है। हार्वर्ड विश्वविद्यालय एवं लन्दन विश्वविद्यालय द्वारा किया गया अध्ययन बताता है कि भारत में हर साल होने वाली मौतों का एक तिहाई वायु प्रदूषण के कारण होता है। जिसका प्रमुख कारण डीज़ल-पेट्रोल का अत्यधिक उपयोग एवं थर्मल पॉवर प्लांट्स है। अकेले वाराणसी में सड़कों की धुल, ख़राब सड़क, कचरा जलने के साथ साथ डीज़ल एवं पेट्रोल से चलित गाड़ियों से निकलने वाला प्रदूषण शहर की आबोहवा में प्रदूषण का एक बड़ा कारण है।

प्रेरणा कला मंच के प्रस्तुति के अतिरिक्त क्लाइमेट एजेंडा के युवा वालंटियर्स द्वारा भी “आज नहीं तो कब” शीर्षक पर नुक्कड़ नाटक की प्रस्तुति दी। आज के नुक्कड़ नाटक में उपरोक्त सभी ज़रूरी जानकारियों एवं अलग अलग समाधान के विषय पर सैकड़ों लोगो को जागरूक किया गया। इस नुक्कड़ नाटक में आम जन को रोज़मर्रा के जीवन को क्लाइमेट फ्रेंडली बनाने का भी सन्देश दिया एवं राष्ट्रीय स्वच्छ वायु कार्यनीति के सुचारू रूप से क्रियान्वयन की मांग रखी. 100% उत्तर प्रदेश अभियान द्वारा वायु प्रदूषण पर चौदह सूत्रीय मांग पर क्यूआर कोड के माध्यम से सैकड़ो डिजिटल समर्थन भी दर्ज हुआ।

इस आयोजन में मुख्य रूप प्रेरणा कला मंच की टीम, भू सेवा जल सेवा अभियान के साथी, गोविंदा, संदीप, रणजीत, विजय, जयपाल, अंकिता, संध्या, सुधा, ज़ीशान, हीना, गूंजा भागीदारी के साथ सैकड़ों नागरिक शामिल हुए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here