Home राज्य उत्तर प्रदेश वाराणसी : अब संक्रामक रोगों से बचाव को लेकर तेज हुई कार्रवाई, बाढ़ प्रभावित...

वाराणसी : अब संक्रामक रोगों से बचाव को लेकर तेज हुई कार्रवाई, बाढ़ प्रभावित रहे इलाकों में एंटी लार्वा का छिड़काव के साथ ही फागिंग

13
0

वाराणसी। जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा के निर्देशानुसार बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में स्वास्थ्य  व्यवस्थाओं को सुदृढ़ बनाने  के लिए स्वास्थ्य विभाग का प्रयास लगातार जारी है। इसबीच गंगा व वरुणा के घटते जलस्तर को देखते हुए बाढ़ से प्रभावित रहे इलाकों में संक्रामक रोगों से बचाव के लिए कार्रवाई तेज कर दी गयी है। इन इलाकों में एंटी लार्वा का छिड़काव के साथ ही फॉगिंग करायी जा रही है।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. संदीप चौधरी ने बताया कि गंगा व वरुणा का  जलस्तर घटना शुरू हो गया है लेकिन बाढ़ से प्रभावित रहे इलाकों में जगह-जगह हुए कीचड़ व जल जमाव से संक्रामक रोग न फैले इसके लिए स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह  अलर्ट है। इसके तहत ही संक्रामक रोगों से बचाव के लिए कार्रवाई तेज कर दी गयी है। उन्होंने कहा कि जल जमाव वाले स्थानों पर मच्छरजनित बीमारी डेंगू, मलेरिया आदि  के फैलने की आशंका अधिक होती है लिहाजा बाढ़ से प्रभावित रहे सभी क्षेत्रों में एंटी लार्वा का छिड़काव करने के साथ ही नगर निगम के सहयोग से फॉगिंग भी करायी जा रही है।

जिला मलेरिया अधिकारी एससी पाण्डेय ने बताया कि एंटी लार्वा के छिड़काव के लिए स्वास्थ्य विभाग ने डूडा से 15 कर्मियों को माँगा है, जो विभिन्न इलाकों में एंटी लार्वा का छिड़काव कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि बृहस्पतिवार को बाढ़ राहत शिविर नवयुग विद्या मंदिर ढेलवरिया, सिटी गर्ल्स स्कूल बड़ी बाजार, माता प्रसाद स्कूल काजी सादुल्लापुरा में बने बाढ़ राहत शिविरों के अलावा नक्खीघाट व अन्य क्षेत्रों मे एंटी लार्वा का छिड़काव कराया गया।

इस बीच बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में नागरिकों को चिकित्सकीय सेवा उपलब्ध कराने का भी प्रयास जारी है। बाढ़ चौकियों पर तो उपचार किया ही जा रहा है आरबीएसके की टीम नाव से लोगों के घरों तक पहुंच कर उन्हें उपचार व आवश्यक दवायें उपलब्ध करा रही हैं।

उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. पीयूष राय ने बताया कि गुरुवार को बाढ़ राहत शिविरों में 397 मरीज देखे गये। इसके साथ ही ओआरएस के 256  पैकेट व क्लोरीन टेबलेट की 2,430 गोलियां वितरित की गयीं।

इस तरह बाढ़ राहत शिविरों में अब तक कुल 2,536 मरीज देखे जा चुके हैं । इसके साथ ही ओआरएस के 1,839 पैकेट व क्लोरीन टेबलेट की 13,450 गोलियां वितरित की गयी हैं ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here