Home ताजा UP Elections 2022 : सियासी दलों की बढ़ी धड़कने, मुस्लिमों की चुप्पी...

UP Elections 2022 : सियासी दलों की बढ़ी धड़कने, मुस्लिमों की चुप्पी किसे करेंगे वोट

75
0

लखनऊ। उत्तर प्रदेश सहित 4 और राज्यों में चुनावी बिगुल की घोषणा हो चुकी है। वही देश मे तेजी से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के कारण विधानसभा चुनाव इस बार वर्चुअल रैली के माध्यम से की जा रही है। इसको देखते हुए सभी राजनीतिक पार्टियों की धड़कनें बढ़ गई हैं कि यूपी में इस बार मुस्लिम वोटर किसके तरफ होंगे। बता दें कि यूपी के मुसलमान इस बार के विधानसभा चुनाव में खामोश हैं। हालांकि, 20 फीसदी मुसलमान जिस भी पार्टी पर मेहरबान हो गये उसका जीत पक्की हो जाती है। यह भी आम धारणा है कि मुसलमान थोक रूप से एक तरफा मतदान करते हैं।

हालांकि ऐसा पहली बार है जब न तो चुनावों के लिए कोई अभी तक कोई फतवा जारी हुआ न ही कोई दल यह थाह लगा पा रहा है कि मुस्लिम वोट किधर जाएगा। मुस्लिमों की चुप्पी ने राजनीतिक दलों की धड़कने बढ़ा दी है। अब तक के चुनावों का विश्लेषण करें तो पता चलता है कि मुस्लिम बहुल सीटों के मतदाता सामान्य सीटों के वोटरों से कुछ भी अलग रुख अख्तियार नहीं करते। वे भी बाकी की तरह स्थानीय मुद्दों, गरीबी, बेरोजगारी, अशिक्षा, भ्रष्टाचार, कानून-व्यवस्था और स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को लेकर वोट करते हैं। वे कभी किसी धार्मिक अपील पर वोट नहीं करते नहीं दिखे।

कांग्रेस से हटकर अब सपा-बसपा की ओर बढ़े मुस्लिम वोटर

यदि बात की जाए तो कभी कांग्रेस का परंपरागत वोट बैंक रहें मुस्लिम फिलहाल कांग्रेस से हटकर विगत कुछ चुनावों से सपा-बसपा को वोट करते रहे हैं, लेकिन इस बार सपा, बसपा, कांग्रेस के साथ ही असदुद्दीन ओवैसी भी मुस्लिमों पर डोरे डाल रहे हैं, तो वही पूर्वांचल में डॉ अय्यूब अंसारी की पीस पार्टी भी खुद को मुसलमानों का सबसे बड़ा हितैषी बताती रही है। 2012 में पीस पार्टी तीन सीट जीत चुकी है। लेकिन इस चुनाव में उसका असर गायब है।

UP में 24 सीटों पर मुस्लिम उम्मीदवार हावी

उत्तर प्रदेश की करीब 24 से ज्यादा सीटें ऐसी हैं जहां मुस्लिम उम्मीदवार हावी हैं। जबकि करीब 100 सीटें ऐसी हैं जिन पर मुस्लिम मतदाता हार-जीत को प्रभावित करते हैं। यूपी की 145 सीटों पर प्रभाव करीब 70 सीटों में 20 से 60 फीसदी के बीच आबादी रामपुर, फर्रुखाबाद और बिजनौर में करीब 40 प्रतिशत मुस्लिम आबादी है।

2017 में मुस्लिम प्रतिनिधित्व

बसपा ने सबसे ज्यादा 102 मुस्लिम उम्मीदवार उतारे, जीते 05
सपा-कांग्रेस गठबंधन ने 89 मुस्लिम उम्मीदवार उतारे 19 विधायक जीते (सपा -17, कांग्रेस -2)
2012 के विधानसभा चुनाव में 64 यानि 17.1 फीसदी मुस्लिम विधायक जीते (सपा-41, बसपा-15, कांग्रेस-2, अन्य-6)
2017 के विधानसभा चुनाव में 5.9 फीसदी ही जीत सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here