Home राज्य उत्तर प्रदेश डेढ हजार रैदासियों संग वाराणसी के संत रविदास मंदिर पहुंचे संत निरंजन...

डेढ हजार रैदासियों संग वाराणसी के संत रविदास मंदिर पहुंचे संत निरंजन दास

207
0

वाराणसी । संत रविदास जयंती sant ravidas jayanti (16 फरवरी) समारोह में शिरकत करने के लिए पंजाब से रैदासिया समाज के प्रमुख संत निरंजन दास सोमवार को बेगमपुरा स्पेशल ट्रेन से वाराणसी पहुंचे। ट्रेन के कैंट रेलवे स्टेशन पहुंचने के बाद वाराणसी के रैदासिया समाज के लोगों ने भव्य स्वागत किया। संत निरंजन दास के साथ पंजाब से डेढ हजार से ज्यादा रैदासिया समाज के लोग पहुंचे हैं।


बेगमपुरा स्पेशल ट्रेन के कैंट स्टेशन पर पहुंचते ही देश के कोने-कोने से वाराणसी पहुंचे रैदासिया समाज के लोगों ने गुरु चरणों की माटी माथे पर लगाई। फिर धूम-धाम से उन्हें सीरगोवर्धनपुर स्थित संत रैदास मंदिर ले गए। संत शिरोमणि क सीर गोवर्धनपुर पहुंचते ही संत रैदास जयंती उत्सव में मानों चार चांद लग गया। अब मंगलवार की शाम रविदास पार्क में दीप प्रज्ज्वलित करने के साथ ही संत रैदास जयंती के मुख्य उत्सव का आगाज हो जाएगा। फिर माघ पूर्णिमा (16 फरवरी) को निशान फहराकर संत रैदास जयंती समारोह की शुरूआत होगी।


पंजाब के डेरा सचखंड बल्लां के संत निरंजन दासपंजाब के डेरा सचखंड बल्लां के संत निरंजन दास के साथ पंजाब से आने वाले रैदासियों के जत्थे से पहले लगभग 28 हजार रैदासी सीरगोवर्धनपुर आ चुके हैं। अभी 30 बसों और करीब 100 चारपहिया वाहनों से रैदासी समाज के लोग।

सीरगोवर्धनपुर पहुंचने वाल हैं। इन सभी के आने के बाद संत रैदास की जन्मस्थली पूरी तरह से मिनी पंजाब में तब्दील हो जाएगी। वैसे वर्तमान में भी सीरगोवर्धनपुर का मंजर मिनी पंजाब के रूप में तब्दील हो चुका है।से लेकर पूरे मेला क्षेत्र को रंगबिरंगी झालरों से सज गया है। सीरगोवर्धनपुर यानी संत रैदास के सपनों का गांव बेगमपुरा अमृतवाणी से गूंज रहा है।

इस बीच Sant Ravidas Mandir के ट्रस्टी केएल सरोआ बताते हैं कि गुरु महाराज के प्रकाशोत्सव में शामिल होने के लिए उत्तर प्रदेश और पंजाब के अलावा हरियाणा, दिल्ली, मध्य प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, महाराष्ट्र के साथ ही दक्षिण भारत के अन्य राज्यों से रैदासियों के जत्थे आए हैं। मेला क्षेत्र की निगरानी के लिए हाई रिजल्यूशन वाले सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। मेला क्षेत्र में दो पुलिस चौकियां स्थापित कर चप्पे-चप्पे पर पुलिस-पीएसी के जवानों के साथ ही एलआईयू के कर्मचारी तैनात किए गए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here