Home राज्य उत्तर प्रदेश एम.पी.एम.एम.सी.सी. एवं एच.बी.सी.एच. ने स्वैच्छिक रक्तदाताओं का किया सम्मान

एम.पी.एम.एम.सी.सी. एवं एच.बी.सी.एच. ने स्वैच्छिक रक्तदाताओं का किया सम्मान

58
0

वाराणसी । आज विश्व रक्तदाता दिवस के मौके पर महामना पंडित मदन मोहन मालवीय कैंसर केंद्र एवं होमी भाभा कैंसर अस्पताल द्वारा अस्पताल में कैंसर मरीजों के लिए रक्तदान करने वाले स्वैच्छिक रक्तदाताओं का सम्मान किया गया। इस मौके पर अस्पताल द्वारा स्वैच्छिक रक्तदाताओं द्वारा की जा रही मानवीय सेवा के लिए उनका धन्यवाद भी किया गया। साथ ही इस मुहिम से अधिक से अधिक लोगों को जोड़ने के लिए अस्पताल प्रशासन द्वारा अपील भी की गई।

ज्ञात हो कि हर साल 14 जून को विश्व रक्तदाता दिवस के रूप में मनाया जाता है, जिसका उद्देश्य लोगों को स्वैच्छिक रक्तदान के लिए प्रोत्साहित करना है। इसी को ध्यान में रखते महामना पंडित मदन मोहन मालवीय कैंसर केंद्र एवं होमी भाभा कैंसर अस्पताल में नियमित रूप से स्वैच्छिक रक्तदान करने वालों का अस्पताल के निदेशक डॉ. सत्यजीत प्रधान द्वारा अंगवस्त्र, प्रमाण पत्र एवं स्मृति चिह्न देकर सम्मान किया गया।

इस मौके पर अस्पताल के रक्ताधान चिकित्सा विभाग के प्रमुख डॉ. अक्षय बत्रा ने सभी रक्तादाताओं का धन्यवाद करते हुए कहा कि कैंसर मरीजों में खून और प्लेटलेट की जरूरत बार-बार पड़ती रहती है। इसके लिए हमें अधिक से अधिक स्वैच्छिक रक्तदाताओं की जरूरत होती है। चूंकि खून और इसके घटक को कहीं और तैयार नहीं किया जा सकता, इसलिए हमें समाज में स्वैच्छिक रक्तदाताओं की बड़े पैमाने पर आवश्यकता है। शरीर से खून (होल ब्लड) लेने की तुलना में प्लेटलेट या इसके घटक लेना आसान है। साथ ही प्लेटलेट दान कम अंतराल पर भी किया जा सकता है। हम अस्पताल में स्वैच्छिक रक्तदान करने वाले सभी लोगों का शुक्रगुजार हैं और उम्मीद करते हैं कि आगे भी ये लोग मरीजों की सेवा के लिए तैयार रहेंगे। हमारे पास रक्त विभाग से जुड़ी सभी अत्याधुनिक मशीनें होने के साथ ही सभी सुविधाएं एक छत के नीचे उपलब्ध है।

इस अवसर पर अस्पताल के निदेशक डॉ. सत्यजीत प्रधान ने अपना विचार रखते हुए कहा कि खून एक ऐसी चीज है जिसे न तो कंपनी में तैयार किया जा सकता है न ही फैक्टरी में। इसके लिए केवल हम इंसान ही एक दूसरे की मदद कर सकते हैं। अस्पताल में अब तक 10 हजार से अधिक लोगों की सर्जरी की जा चुकी है, जिसे सफल बनाने में काफी हद तक स्वैच्छिक रक्तदाताओं की भूमिका रही है।

इनका हुआ सम्मान – सौरभ मौर्या, राजेश गुप्ता, नीरज पारेख, प्रदीप इसरानी,धीरज कुमार मल्ल, विनय गुप्ता, सत्यप्रकाश, नमित पारेख,सुनिल सिंह एवं अभिषेक तिवारी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here