Home राज्य उत्तर प्रदेश वाराणसी : बन्द कमरे के भीतर संदिग्ध हालात में मिला मां बेटी...

वाराणसी : बन्द कमरे के भीतर संदिग्ध हालात में मिला मां बेटी का शव

69
0

वाराणसी। लंका थाना क्षेत्र ओ नरिया प्राथमिक विद्यालय के बगल में रहने वाली सुनीता पांडेय 58 साल का कमरे में बेटी दीपिका पांडेय 28 साल का शव घर लॉबी में मिला।मामले की जानकारी बुधवार दोपहर बाद चोलापुर में रहने वाले छोटे बेटे अंजनी पांडेय के पहुंचने के बाद हुई।

अंजनी दोपहर बाद घर पहुंचा उसको कुछ दुर्गंध महसूस हुई दरवाजा पीटा भीतर से कोई जबाब नहीं मिला। इसके बाद पार्षद कमल पटेल को जानकारी देते हुए पुलिस को सूचना दिया। सूचना पर एसीपी भेलूपुर इंस्पेक्टर लंका वेद प्रकाश राय संकट मोचन चौकी प्रभारी के साथ मौके पर पहुंचे। सूचना फोरेंसिक टीम के साथ एडीसीपी काशी एडिशन कमिश्नर सन्तोष सिंह,डीसीपी काशी पहुंचे।

अधिकारियों ने बन्द कमरे में घण्टे भर बेटे अंजनी से पूछताछ किया।पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजवाया।


मूल रूप से देवरिया के रहने वाले बालमुकुंद पांडेय बिजली विभाग में बाबू थे।40 साल पहले नरिया में घर बनवाकर बड़ा अखिलेश अंजनी और बेटी दीपिका पत्नी सुनिता के साथ रहती थी।दो साल पहले बालमुकुंद की मौत होने के बाद दोनों बेटों और मां विवाद छिड़ गया।

बीते साल नंबर में काफी विवाद होने के बाद मकान का चार हिस्से लगाकर तीन भाग में बटवारा किया गया।जिसमें दीपिका और सुनीता का हिस्सा साथ में एक तरफ था।जिसमें रहती थी। बाकी बेटा अखिलेश दिल्ली में हाई कोर्ट में प्रैक्टिस करता है। छोटा बेटा अंजनी का हिसह है।अखिलेश ने मकान गिरने के बाद अपना शेयर बेच दिया।मां को मिलने वाले पेंशन से मां बेटी का जीवकोपार्जन होता था। दीपिका चिरईगांव किसी कॉलेज से बीएड कर रही थी।

इनके घर दोनों तरफ विद्यालय है जबकि पिछले तरफ खाली और आगे सड़क है। सामने पड़ोस में रहने वाले लोगों से भी इन लोगों की नहीं बनती थीं।जिसके कारण कोई मतलब नहीं रखता था*

3 तारीख से गेट पर रखा था पेपर

सुनीता पेपर पढ़ने के लिए लेती थी।पिछले 3 जुलाई से उनका पेपर दरवाजे पर रखा मिला।घर के भीतर कुछ सामान अपने जगहों पर सुरक्षित नहीं था। पुलिस के अनुसार शव 9 दिन से अधिक पुराना होने के कारण बॉडी में कीड़े पड़ गए। बॉडी को चाल दिया था।चेहरे का हिस्सा खत्म हो गया।

मां बेटी का शव निर्वस्त्र थी।ऊपर से चादर पड़ा था। लाबी से जुड़ा पिछला दरवाजा और छत का दरवाजा खुला था। मकान का दो हिसा खंडहर होने के कारण इसकी रास्ते से घुसने किसी के घुसने का अनुमान लगाया जा रहा है। नरिया तिराहे से घटनास्थल तक लगे सारे सीसीटीवी कैमरों की जांच क्राइम ब्रांच की टीम खंगालने में जुट गई।

घटना को लेकर लोग तरह तरह के कयास लगा रहे थे।छोटा बेटा चोलापुर में किसी पोल्ट्री फार्म में नौकरी करता है।बड़ा बेटा दिल्ली सुप्रीम कोर्ट में वकालत करता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here