Home राज्य उत्तर प्रदेश पहले चरण की वोटिंग के लिए थम गया प्रचार प्रसार,11 जिलों की...

पहले चरण की वोटिंग के लिए थम गया प्रचार प्रसार,11 जिलों की 58 सिंटो पर 10 को मतदान

81
0

यूपी विधानसभा चुनाव के पहले चरण की वोटिंग के लिए प्रचार का शोर थम गया है। पश्चिमी यूपी और ब्रज क्षेत्र के 11 जिलों की 58 सीटों पर गुरुवार 10 फरवरी को मतदान होगा। बुधवार को पोलिंग पार्टियां बूथों के लिए रवाना हो जाएंगी।शाम तक सभी को अपने-अपने बूथों पर पहुंचाने से लेकर मतदान से जुड़ी अन्य तैयारियां पूरी कर ली गई हैं।

सुरक्षा का भी मुकम्मल इंतजाम किया गया है। पहले चरण में शामली, मुजफ्फरनगर, बागपत, मेरठ, गाजियाबाद, हापुड़, गौतमबुद्धनगर, बुलंदशहर, अलीगढ़, मथुरा और आगरा में वोटिंग होनी है। 2.27 करोड़ मतदाता इस चरण में वोटिंग करेंगे। इस चरण में कुल 623 प्रत्याशी हैं। सबसे ज्यादा मथुरा में 15 प्रत्याशी हैं। दस फरवरी को सुबह छह बजे से मतदान शुरू हो जाएगा।

प्रचार थमते ही इन 11 जिलों से जुड़ी दूसरे जिलों और दूसरे राज्यों से जुड़ी सीमाएं सील कर दी गईं। चौकसी बढ़ा दी गई। इसी के साथ ही शराब, बीयर, भांग आदि की लाइसेंसी दुकानें 48 घंटों के लिए बंद करवा दी गईं। यह दुकानें अब 10 फरवरी को मतदान सम्पन्न होने के बाद ही खुलेंगी।

इन सीटों पर होगा मतदान

जिन 58 सीटों पर मतदान होना है, वह हैं-कैराना, थाना भवन, शामली, बुढ़ाना, चर्थवाल, पुरकाजी सु., मुजफ्फरनगर, खतौली, मीरापुर, सीवालखास, सरधना, हस्तिनापुर सु., किठोर, मेरठ कैण्ट, मेरठ दक्षिण, छपरौली, बड़ौत, बागपत, लोनी, मुरादनगर, साहिबाबाद, गाजियाबाद, मोदीनगर, धौलाना, हापुड़ सु., गढ़मुक्तेश्वर, नोएडा, दादरी, जेवर, सिकन्दराबाद, बुलंदशहर, स्याना, अनूपशहर, डिबाई, शिकारपुर, खुर्जा सु., खैर सु., बरौली, अतरौली, छर्रा, कोल, अलीगढ़, इग्लास सु., छाता, मांट, गोवर्धन, मथुरा, बलदेव सु., एत्मादपुर, आगरा कैण्ट सु., आगरा दक्षिण, आगरा उत्तर, आगरा ग्रामीण सु., फतेहपुर सीकरी, खैरागढ़, फतेहाबाद और बाह।

मतदान प्रतिशत बढ़ाने पर जोर

केन्द्रीय चुनाव आयोग ने उत्तर प्रदेश सहित पांचों राज्यों में मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए इस बार इन पांचों राज्यों की चुनाव मशीनरी को विशेष प्रयास करने के निर्देश दिये हैं। मुख्य निर्वाचन अधिकारी सुशील चन्द्रा ने चुनाव मशीनरी को सातों चरणों में औसतन 70 से 80 प्रतिशत मतदान करवाने के लिए प्रयास करने को कहा है। अभी तक औसतन 60 फीसदी वोटिंग होती रही है। इस बार मतदाता किस मूड में है और कितने प्रतिशत मतदान होगा यह तो 10 फरवरी को पहले चरण की पोलिंग से ही पता चल जाएगा।

मतदान प्रतिशत बढ़वाने को क्या-क्या कर रही चुनाव मशीनरी

प्रदेश के अपर मुख्य निर्वाचन अधिकारी ब्रह्मदेव राम तिवारी ने ‘हिन्दुस्तान’ से बातचीत में कहा-‘संकल्प हमारा न टूटे, कोई मतदाता न छूटे के नारे के साथ हम आयोग के निर्देश पर सुरक्षित, सजग, सुविधाजनक, सुगम्य मतदान करवाने की तैयारी रहे हैं।

जहां तक मतदान प्रतिशत बढ़ाने के हमारे प्रयासों का सवाल है तो पिछले दो महीनों से हम लगातार व्यवस्थित मतदाता शिक्षा और चुनावी भागीदारी के जरिये तमाम गतिविधियां संचालित कर रहे हैं ताकि इस बार लोग खुद तो मतदान करें ही साथ ही दूसरों को भी मतदान करने के लिए प्रेरित करें। इसके लिए हम लोगों ने बूथ स्तर पर चुनावी पाठशाला, वोटर अवेयरनेस फोरम, स्कूल-कालेज में इलेक्ट्रोल लिट्रेसी क्लब की गतिविधियां चलायी हैं।

इसके अलावा बीएलओ, आशा बहुएं, आंगनबाड़ी कार्यकत्री, बुलावा टोलियां भी घर-घर सम्पर्क कर लोगों को मतदान करने के लिए प्रेरित कर रहे हैं। इस काम में एनएसएस, एनसीसी, भारत स्काउट गाइड, युवक मंगल दल, हमारे ब्राण्ड अम्बेस्डर भी सहयोग कर रहे हैं। वीडियो वैन के जरिये हम जगह-जगह लोगों को यह भी बता रहे हैं कि ईवीएम और वीवीपैट क्या हैं और यह क्या काम करती हैं। हमें पूरी उम्मीद है कि इस बार मतदान प्रतिशत जरूर बढ़ेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here