Home राज्य उत्तर प्रदेश BJP ने पूर्वांचल की नौ सीटों पर जारी की उम्‍मीदवारों की लिस्‍ट

BJP ने पूर्वांचल की नौ सीटों पर जारी की उम्‍मीदवारों की लिस्‍ट

55
0

भाजपा केंद्रीय चुनाव समिति की ओर से उत्‍तर प्रदेश में अंतिम चरण के मतदान के लिए नौ उम्‍मीदवारों की एक लिस्‍ट जारी कर पूर्वांचल को लेकर भाजपा की रणनीति को स्‍पष्‍ट किया है। इस प्रकार पूर्वांचल को लेकर भाजपा की ओर से उम्‍मीदवारों की लगभग स्थिति स्‍पष्‍ट हो गई है। इस बाबत सूची जारी होने के साथ ही पूर्वांचल के प्रमुख सीटों पर मुकाबले की सूरत विभिन्‍न दलों की ओर से तय हो गई है।

भाजपा की ओर से शनिवार को पूर्वांचल के उम्मीदवारों की एक और लिस्ट जारी की। इसमें मऊ, आज़मगढ़, जौनपुर, गाजीपुर, चन्दौली और सोनभद्र जिले शामिल हैं। मुबारकपुर से अरविंद जायसवाल, मुहम्मदाबाद गोहना (सु.) से पूनम सरोज, मऊ सदर से अशोक सिंह, मछलीशहर (सु.) से मिहिलाल गौतम, जहूराबाद से कालीचरण राजभर, मुगलसराय से रमेश जायसवाल, चकिया (सु.) से कैलाश खरवार, घोरावल से अनिल मौर्य और ओबरा (सु.) से संजीव गोंड को चुनाव मैदान में भाजपा ने उतारा है। भाजपा की ओर से राष्ट्रीय महासचिव और मुख्यालय प्रभारी अरुण सिंह की ओर से इस बाबत पत्र जारी कर टिकट के लिए कुल नौ उम्मीदवारों की जानकारी दी गई है।

सोनभद्र से मंत्री व विधायक पर भरोसा : लंबे इंतजार के बाद शनिवार को भारतीय जनता पार्टी ने चार विधानसभा सीटों वाले सोनभद्र में घोरावल व ओबरा के प्रत्याशियों के नाम सार्वजनिक कर दिए। भाजपा ने समाज कल्याण राज्य मंत्री संजीव गोंड़ को ओबरा व विधायक अनिल मौर्या को घोरावल से प्रत्याशी घोषित किया है। राबर्ट्सगंज व दुद्धी विधानसभा सीट पर अभी प्रत्याशियों के नाम सार्वजनिक नहीं किए गए हैं। पार्टी पदाधिकारी उम्मीद जता रहे हैं कि एक-दो दिन के अंदर इन सीटों पर भी प्रत्याशियों के नाम सार्वजनिक कर दिए जाएंगे।संजीव गोंड़ पहली बार भाजपा के टिकट पर ओबरा से वर्ष 2017 में विधायक चुने गए थे। इसके बाद वर्ष 2021 में मुख्यमंत्री ने अपने मन्त्रिमण्डल विस्तार में समाज कल्याण राज्यमंत्री का दर्जा दिया। विदित हो कि ओबरा विधानसभा सीट अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित है। वहीं घोरावल विधानसभा सीट अनारक्षित है, इस पर पार्टी ने वर्तमान विधायक अनिल मौर्य पर ही भरोसा जताया है। इसके पूर्व अनिल मौर्य बसपा से दो बार विधायक रह चुके हैं। विधानसभा चुनाव में अनिल मौर्या पांचवी बार अपनी किस्मत आजमाने मैदान में उतर रहे हैं। कांग्रेेस व सपा ने इसके पहले ही जिले के चारो विधानसभा सीट पर अपने प्रत्याशियों के नाम सार्वजनिक कर चुकी है, वहीं बहुजन समाज पार्टी ने अभी तक एक भी सीट पर प्रत्याशी फाइनल नहीं किया है।

मऊ में भाजपा विधायक का टिकट कटा, मुख्तार के खिलाफ अशोक सिंह : 18वीं विधानसभा के अंतिम चरण में भाजपा ने बड़ा फेरबदल करते हुए मुहम्मदाबाद गोहना के घोषित प्रत्याशी विधायक श्रीराम सोनकर का टिकट काटकर पूनम सरोज पर विश्वास जताया है। पहले की सूची में विधायक श्रीराम के प्रत्याशी घोषित होने से विधानसभा क्षेत्र के दर्जनों गांवों में स्थानीय लोगों ने जबरदस्त विरोध करते हुए पुतला दहन किया था। इसका संज्ञान लेते हुए भाजपा के शीर्ष नेतृत्व ने विधायक का टिकट काटकर स्थानीय प्रत्याशी को टिकट दिया है। उधर पूर्वांचल की सबसे चर्चित सीट मऊ सदर पर मुख्तार अंसारी के खिलाफ भाजपा ने कैथवली निवासी अशोक सिंह को उम्मीदवार बनाया है। 2009 में गाजीपुर तिराहा पर यूनियन बैंक के पास पीडब्ल्यूडी के ठेकेदार प्रेमप्रकाश सिंह मन्ना की ताबड़तोड़ गोलियां चलाकर हत्या कर दी गई थी। इस मामले में मन्ना सिंह के भाई अशोक सिंह मुख्य गवाह थे। 2017 विधानसभा के पूर्व अशोक सिंह ने भाजपा की सदस्यता ली थी। 2017 में ही वे सदर सीट से प्रबल दावेदार थे परंतु भाजपा-सुभासपा गठबंधन में यह सीट सुभासपा के खाते में चले जाने से वे टिकट से वंचित हो गए थे।

जहूराबाद से भाजपा ने कालीचरण को बनाया प्रत्याशी : भाजपा ने जहूराबाद से कालीचरण राजभर को प्रत्याशी घोषित किया है। कालीचरण एक माह पूर्व ही सपा छोड़कर भाजपा में आए। वर्ष 2002 में पहली बार बसपा की टिकट पर जहूराबाद से विधायक चूने गए। 2007 में दूसरी बार फिर से बसपा के टिकट पर ही जहूराबाद से विधायक बने। 2021 में समाजवादी पार्टी में चले गए और अब भारतीय जनता पार्टी का दामन थाम लिया है।

मुबारकपुर से अरविंद जायसवाल होंगे भाजपा प्रत्याशी : भाजपा ने एकमात्र बची सीट पर भी शनिवार को अपने प्रत्याशी के नाम की घोषणा कर दी।मुबारकपुर विधानसभा सीट से गोरखपुर क्षेत्र के भाजपा उपाध्यक्ष अरविंद जायसवाल चुनाव लड़ेंगे। मूल रूप से सगड़ी तहसील के अजमतगढ़ स्टेट के रहने वाले 50 वर्षीय अरविंद ने मालटारी डिग्री कालेज से बीए और लखनऊ विश्वविद्यालय से वकालत की शिक्षा के बाद वर्ष 1991 में कांग्रेस से राजनीति की शुरुआत की थी और 2002 में अजमतगढ़ नगर पंचायत के चेयरमैन बने थे। उसी समय कांग्रेस ने विधानसभा सगड़ी से टिकट दिया तो चौथे नंबर पर सिमट गए थे। फिर 2012 में मौका मिला तो तीसरे स्थान पर रहे।2014 में लोकसभा का टिकट मिला, लेकिन सफलता नहीं मिली। युवक कांग्रेस और जिला कांग्रेस अध्यक्ष की जिम्मेदारी संभाल चुके अरविंद ने वर्ष 2016 में भाजपा की सदस्यता ग्रहण की और उसके बाद उन्हें क्षेत्रीय उपाध्यक्ष बनाया गया।

मछलीशहर से भाजपा ने आम कार्यकर्ता पर लगाया दांव : मछलीशहर सुरक्षित सीट से भाजपा ने 48 वर्षीय मेंहीलाल गौतम पर दांव लगाया है। शनिवार को पार्टी ने इन्हें प्रत्याशी घोषित कर अपनी दावेदारी मजबूत कर दी है। मेंहीलाल 2001 से भाजपा के आम कार्यकर्ता रूप में अपनी राजनीति की शुरुआत की है। वर्तमान में यह भाजपा जिला महामंत्री हैं। मछलीशहर क्षेत्र के मतरी मथुरा गांव निवासी मेंहीलाल 2010 से 2015 तक ग्राम प्रधान भी रहे। यह मुख्य रूप से नगर के सुजानगंज चौराहे पर टायर की दुकान चलाते हैं और घर पर खेती -बारी का कार्य करते हैं। तीन भाइयों में सबसे छोटे मेंहीलाल इंटर तक शिक्षा ग्रहण की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here