Home राज्य उत्तर प्रदेश वाराणसी : प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के लिए “उमंग” के साथ करे...

वाराणसी : प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के लिए “उमंग” के साथ करे आवेदन, शत-प्रतिशत लाभ पहली बार गर्भवती को दिलाना मुख्य उद्देश्य

202
0

वाराणसी। सरकार की ओर से महिलाओं के बेहतर स्वास्थ्य देखभाल के लिए कई कल्याणकारी योजनाएं चलाई जा रहीं  हैं, जिसके तहत उन्हें आर्थिक लाभ दिया जाता है । इसका लाभ सुलभ तरीके से उन तक पहुंच सके, इसके लिए सरकार लगातार प्रयासरत है। भारत सरकार की ओर से “उमंग” एप तैयार किया गया है। इस एप के माध्यम से प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना (पीएमएमवीवाई) के लिए स्वतः पंजीकरण कर योजना का लाभ लिया जा सकता है।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ संदीप चौधरी ने बताया कि जिले में 21 मार्च से प्रधानमंत्री मातृ वंदना सप्ताह मनाया जा रहा है। जो रविवार को समाप्त हो जाएगा। इस दौरान आशा कार्यकर्ता घर-घर जाकर लाभार्थियों का पंजीकरण कर रहीं हैं। इस योजना का उद्देश्य शत-प्रतिशत लाभ पहली बार गर्भवती को दिलाना एवं मातृ एवं शिशु मृत्यु दर में कमी लाना है।

डॉ चौधरी ने बताया कि डिजिटलीकरण को बढ़ावा देने के लिए वर्ष 2017 में इस एप को लांच किया गया था। केन्द्रीय स्तर पर तैयार किए गए “उमंग” एप के माध्यम से प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना सहित स्वास्थ्य की 11 सेवाओं का लाभ ले सकते हैं। इस एप से आवेदन व पंजीकरण की प्रक्रिया में आसानी आ सकेगी। उन्होने बताया कि पहली बार माँ बनने वाली लाभार्थी इस एप के जरिये स्वतः पंजीकरण कर सकती हैं।

नोडल अधिकारी एवं एसीएमओ (आरसीएच) डॉ एके मौर्या ने बताया कि “उमंग” एप पर प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना, आयुष्मान भारत योजना सहित भारत सरकार की कई योजनाओं का लाभ ले सकते हैं। उन्होंने बताया कि संलग्न लिंक से https://web.umang.gov.in/uaw/i/v/ref एप को मोबाइल पर डाउनलोड किया जा सकता है। इसके माध्यम से प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना का स्वतः पंजीकरण किया जा सकता है। एप पर फ्लैगशिप स्कीम पर जाकर पीएमएमवीवाई का विकल्प चुनना है। इसके अलावा “उमंग” एप पर सीधे पीएमएमवीवाई को सर्च कर सेल्फ रजिस्ट्रेशन किया जा सकता है।

क्या है उमंग एप

UMANG (यूनिफाइड मोबाइल एप्लिकेशन फॉर न्यू-एज गवर्नेंस) को देश में मोबाइल गवर्नेंस को चलाने के लिए इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय और राष्ट्रीय ई-गवर्नेंस डिवीजन द्वारा विकसित किया गया है। उमंग सभी भारतीय नागरिकों को केंद्र से लेकर स्थानीय सरकारी निकायों तक की अखिल भारतीय ई-गवर्नेंस सेवाओं तक पहुंचने के लिए एक एकल मंच प्रदान करता है।

इस तरह से उठा सकते हैं लाभ

उमंग ऐप के माध्यम से प्रधानमंत्री मंत्री मातृ वंदना योजना का सेल्फ रजिस्ट्रेशन किया जा सकता है उसके लिए लाभार्थी को मात्र सबसे पहले मोबाइल में एप डाउनलोड करना होगा। मोबाइल नंबर से लॉग-इन करना जरूरी है क्योंकि उसी नंबर मेन ओटीपी यानि वन टाइम पासवर्ड आएगा, जिससे आगे की प्रक्रिया संभव होगी।

जिले की 78,647 महिलाओं को मिला लाभ

पीएमएमवीवाई की जिला कार्यक्रम समन्वयक शालिनी श्रीवास्तव ने बताया कि योजना के तहत जनवरी 2017 से अब तक के पहली बार माँ बनने वाली 78,647 महिलाओं को लाभ दिया जा चुका है। इस तरह यह करीब 77 प्रतिशत उपलब्धि है। शुरुआत से अब तक करीब 30.35 करोड़ रुपये का भुगतान लाभार्थियों को किया जा चुका है।

पहली बार गर्भवती होने पर तीन किस्तों में मिलते हैं पांच हजार रुपये

योजना के तहत पहली बार गर्भवती (मां बनने) होने पर महिला को तीन किस्तों में पांच हजार रुपये दिए जाते हैं, प्रसव चाहे सरकारी या निजी अस्पताल में कराया गया हो। पंजीकरण कराने के साथ ही गर्भवती को प्रथम किस्त के रूप में 1000 रुपये दिए जाते हैं। प्रसव पूर्व कम से कम एक जाँच होने पर दूसरी किस्त के रूप में (गर्भावस्था के छह माह बाद) 2000 रुपये और बच्चे के जन्म का पंजीकरण होने और बच्चे के प्रथम चक्र का टीकाकरण पूरा होने पर तीसरी किस्त के रूप में 2000 रुपये दिए जाते हैं। यह सभी भुगतान गर्भवती के बैंक खाते में ही किये जाते हैं।

यह दस्तावेज़ हैं जरूरी

इसके अलावा पीएचसी/सीएचसी पर भी पंजीकरण करा सकते हैं। इसके लिए माता-पिता का आधार कार्ड, लाभार्थी मां की बैंक पासबुक की फोटो कापी जरूरी है। लाभार्थी मां का बैंक अकाउंट ज्वाइंट नहीं होना चाहिये। निजी अकाउंट ही मान्य होगा। यदि बच्चे का जन्म हो चुका है तो मां और बच्चे दोनों के टीकाकरण का प्रमाणिक पर्चा होना जरूरी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here